कोई समझाए ये क्या रंग है मैख़ाने का

Lyrics: Allama Iqbal
Singer: Ghulam Ali

कोई समझाए ये क्या रंग है मैख़ाने का
आँख साकी की उठे नाम हो पैमाने का।

गर्मी-ए-शमा का अफ़साना सुनाने वालों
रक्स देखा नहीं तुमने अभी परवाने का।

चश्म-ए-साकी मुझे हर गाम पे याद आती है,
रास्ता भूल न जाऊँ कहीं मैख़ाने का।

अब तो हर शाम गुज़रती है उसी कूचे में
ये नतीजा हुआ ना से तेरे समझाने का।

मंज़िल-ए-ग़म से गुज़रना तो है आसाँ ‘इक़बाल’
इश्क है नाम ख़ुद अपने से गुज़र जाने का।

रक्स = Dance
चश्म = Eye
गाम = Step

5 Responses to कोई समझाए ये क्या रंग है मैख़ाने का

  1. Raman Kaul says:

    “वालों” की जगह “वालो” लिखें।
    “ना से” की जगह “नासेह” लिखें।

    नासेह/नासह = Preacher, नसीहत करने वाला

  2. nupur says:

    wah kya khoob kaha ‘manjil-a-gum se gujarana to hai aassan,Ishk hai naam khud apne se gujar jane ka.

    jindgi main her gum ko jhel jata hai insaan per ishk ke dariya ko paar kar jana to apne se gujar jane ka hi naam hai

  3. dharmendra says:

    Ye natija hua “NA” se tere samjhane ka….. awesum lines

  4. asma says:

    ….ye apny sy gurjany ka kya khoob kaha ay iqbaal….
    ….ki ishq hein hi naam bs rooh mein utar janay ka…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 70 other followers

%d bloggers like this: