आँखों के इंतज़ार का दे कर हुनर चला गया

Lyrics: Hasan Kamaal
Singer: Asha Bhosle

आँखों के इंतज़ार का दे कर हुनर चला गया,
चाहा था एक शख़्स को जाने किधर चला गया।

दिन की वो महफिलें गईं, रातों के रतजगे गए
कोई समेट कर मेरे शाम-ओ-सहर चला गया।

झोंका है एक बहार का रंग-ए-ख़याल यार भी,
हर-सू बिखर-बिखर गई ख़ुशबू जिधर चला गया।

उसके ही दम से दिल में आज धूप भी चाँदनी भी है,
देके वो अपनी याद के शम्स-ओ-क़मर चला गया

कूचा-ब-कूचा दर-ब-दर कब से भटक रहा है दिल,
हमको भुला के राह वो अपनी डगर चला गया।

हर-सू = In all directions
शम्स-ओ-क़मर = Sun and Moon

2 Responses to आँखों के इंतज़ार का दे कर हुनर चला गया

  1. Nitin Magaji says:

    i want to listen this song, can some one help

  2. Majid mansuri says:

    Suno,

    log puchtai to hogai tumse,

    tumsa koi nhe…

    Lbb khamosh huai hongai, dil kh rhah hoga…

    MUJHSA HE HAI WH ,

    jo khus to hoga apno ke mhfll me,

    pr tnhai me, mere he trh, ashk bhata hoga..!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: