ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो

Lyrics: Sudarshan Faakir
Singer: Jagjit Singh, Chitra Singh

ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो,
भले छीन लो मुझसे मेरी जवानी।
मग़र मुझको लौटा दो बचपन का सावन,
वो कागज़ की कश्ती, वो बारिश का पानी।

मोहल्ले की सबसे निशानी पुरानी,
वो बुढ़िया जिसे बच्चे कहते थे नानी,
वो नानी की बातों में परियों का डेरा,
वो चेहरे की झुर्रियों में सदियों का फेरा,
भुलाए नहीं भूल सकता है कोई,
वो छोटी-सी रातें वो लम्बी कहानी।

कड़ी धूप में अपने घर से निकलना
वो चिड़िया, वो बुलबुल, वो तितली पकड़ना,
वो गुड़िया की शादी पे लड़ना-झगड़ना,
वो झूलों से गिरना, वो गिर के सँभलना,
वो पीपल के पल्लों के प्यारे-से तोहफ़े,
वो टूटी हुई चूड़ियों की निशानी।

कभी रेत के ऊँचे टीलों पे जाना
घरौंदे बनाना,बना के मिटाना,
वो मासूम चाहत की तस्वीर अपनी,
वो ख़्वाबों खिलौनों की जागीर अपनी,
न दुनिया का ग़म था, न रिश्तों का बंधन,
बड़ी खूबसूरत थी वो ज़िन्दगानी।

6 Responses to ये दौलत भी ले लो, ये शोहरत भी ले लो

  1. Durga Dulal says:

    This is very good and interesting poem. As chilhood is
    very-very enjoyable and charming time with out any selfiness.
    I want to the writer for writing this poem.

  2. Puspa says:

    it is very good.keep it up

  3. DP says:

    Good and nice. i love it

  4. गणेश says:

    बहुत सुंदर

  5. DEEPAK RANKA says:

    I am listening to this song from my childhood, even today i like it more and want to play it again and again. Beautifully sung by Ghazal couples and heart touching lyrics. One of my favourite. I like jagjit Singh’s aapko dekhkar dekhta reh gaya, written by both aziz qaisi and waseem barelvi.

  6. karuna says:

    all time favourate

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: