फ़ासले ऐसे भी होंगे ये कभी सोचा न था

Lyricist: Adeem Hashmi
Singer: Ghulam Ali

फ़ासले ऐसे भी होंगे ये कभी सोचा न था
सामने बैठा था मेरे और वो मेरा न था।

वो कि ख़ुशबू की तरह फैला था मेरे चार सू
मैं उसे महसूस कर सकता था छू सकता न था।

रात भर पिछली ही आहट कान में आती रही
झाँक कर देखा गली में कोई भी आया न था।

ख़ुद चढ़ा रखे थे तन पर अजनबीयत के गिलाफ़
वर्ना कब एक दूसरे को हमने पहचाना न था।

याद कर के और भी तकलीफ़ होती थी’अदीम’
भूल जाने के सिवा अब कोई भी चारा न था।

चार सू = In four directions, In all directions
गिलाफ़ = Cover, Envelope

5 Responses to फ़ासले ऐसे भी होंगे ये कभी सोचा न था

  1. Kunal Goel says:

    Faasle aise bhi honge yeh kabhi socha na tha. How true!

  2. sadiq says:

    Na uda yun thokron se
    meri khake qabr zaalim
    yehi ek reh gayi hai
    mere pyar ki nishani

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: