दिल धड़कने का सबब याद आया

Lyricist: Nasir Kazmi
Singer: Ghulam Ali

दिल धड़कने का सबब याद आया
वो तेरी याद थी अब याद आया।

आज मुश्किल है सँभलना ऐ दोस्त
तू मुसीबत में अजब याद आया।

हाल-ए-दिल हम भी सुनाते लेकिन
जब वो रुख़सत हुए तब याद आया।

दिन गुज़ारा था बड़ी मुश्किल से
फिर तेरा वादा-ए-शब याद आया।

बैठ कर साया-ए-गुल में ‘नासिर’
हम बहुत रोये वो जब याद आया।

One Response to दिल धड़कने का सबब याद आया

  1. Kunal Goel says:

    jab woh ruksat hue tab yaad aaya! Excellent.
    din guzara tha badi mushkil se is also great!

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: