रक्स करती है फ़ज़ा वज्द में जाम आया है

Lyricist:
Singer: Ghulam Ali

रक्स करती है फ़ज़ा वज्द में जाम आया है।
फिर कोई ले के बहारों का पयाम आया है।

मैंने सीखा है ज़माने से मोहब्बत करना
तेरा पैग़ाम-ए-मोहब्बत मेरे काम आया है।

तेरी मंज़िल है बुलंद इतनी कि हर शाम-ओ-सहर
चाँद-सूरज से तेरे दर को सलाम आया है।

ख़ुद-ब-ख़ुद झुक गई पेशानी-ए-अरबाब-ए-ख़ुदी
इश्क की राह में ऐसा भी मकाम आया है।

जब कभी गर्दिश-ए-दौराँ ने सताया है बहुत
तेरे रिन्दों की ज़बाँ पर तेरा नाम आया है।


रक्स = Dance
वज्द= Rapture
पेशानी = Forehead
अरबाब = Friends
ख़ुदी = Self-Respect, Ego
रिन्द = Libertine, Blackguard

One Response to रक्स करती है फ़ज़ा वज्द में जाम आया है

  1. dream says:

    rind——carefree;drunkard

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: