दो जवाँ दिलों का ग़म दूरियाँ समझती हैं

Lyricist: Danish Aligarhi
Singer: Hussain Brothers

दो जवाँ दिलों का ग़म दूरियाँ समझती हैं
कौन याद करता है हिचकियाँ समझती हैं।

तुम तो ख़ुद ही क़ातिल हो, तुम ये बात क्या जानो
क्यों हुआ मैं दीवाना बेड़ियाँ समझती हैं।

बाम से उतरती है जब हसीन दोशीज़ा
जिस्म की नज़ाक़त को सीढ़ियाँ समझती हैं।

यूँ तो सैर-ए-गुलशन को कितना लोग आते हैं
फूल कौन तोड़ेगा डालियाँ समझती हैं।

जिसने कर लिया दिल में पहली बार घर ‘दानिश’
उसको मेरी आँखों की पुतलियाँ समझती हैं।


बाम = Terrace, Rooftop
दोशीज़ा = Bride

6 Responses to दो जवाँ दिलों का ग़म दूरियाँ समझती हैं

  1. Manish says:

    Hmmmmmmm bahut dinon ke baad is ghazal ko padha!

    Hussain bandhuon ki aawaz mein ise sabse pehle Vividh Bharti ke Rang Tarang karykram pe suna tha!

    aaj aapki badaulat yahan phir padhne ko mili!

    shukriya😉

  2. […] And the other thing that struck me was this. Why is it that in all the movies the bride always descends from the stairs for the wedding ceremony? Why can’t she come up or just come from the same floor?? This image is also a strong one. Comes even in the poetry. I was recalled the lyrics of this Ghazal“ बाम से उतरती है जब हसीन दोशीज़ाजिस्म की नज़ाक़त को सीढ़ियाँ समझती हैं। […]

  3. Manish says:

    When I first heard it, I liked it. At that time, I was a bachelor. And now when I read it first on this website and that too after getting engaged … this ghazal delivers new meanings … simply awesome😉

  4. kapil says:

    Yun to samjha nhai usne kbhi mera dard,
    Marne k baad mujhe khushiyan dene chale the…..selfmade

  5. इन्सान के जिस्म का सबसे खूबसूरत हिस्सा दिल होता है,
    अगर वही साफ नही है तो चमकता चेहरा किसी काम का नही है।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: