तमाम उम्र तेरा इंतज़ार हमने किया

Lyricist: Hafiz Hoshiarpuri
Singer: Ghulam Ali

तमाम उम्र तेरा इंतज़ार हमने किया
इस इंतज़ार में किस-किस से प्यार हमने किया।

तलाश-ए-दोस्त को एक उम्र चाहिए, ऐ दोस्त!
कि एक उम्र तेरा इंतज़ार हमने किया।

तेरे ख़याल में दिलशाद मैं रहा बरसों
तेरे हुज़ूर इसे सौगवार हमने किया।

ये तिशनगी है कि उनसे क़रीब रहकर भी
‘हफ़ीज़’ याद उन्हें बार-बार हमने किया।


दिलशाद = Cheerful, Winsome
तिशनगी = Desire

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: